Dosti Shayari

“दोस्त को भूलना ग़लत बात है.
उन्ही का तो जिंदगी भर साथ है.
अगर भूल गये तो सिर्फ़ खाली हाथ है,
अगर साथ रहे तो ज़माना कहेगा-‘क्या बात है'”


“गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.”


“गम न हो वहां जहां हो फसाना तेरा,
खुशिंया ढूंढती रहे आशियाना तेरा.
वो वक़्त ही न आए जब तू उदास हो,
ये दुनिया भुला न सके मुस्कुरना तेरा.”


 “सबकी ज़िन्दगी में खुशिया देने वाले,
मेरे दोस्त की ज़िन्दगी में कोई गम न हो.
उसको मुझसे भी अच्छे दोस्त मिले,
अब इस दुनिया में हम न हो.”


“बिकता है गम इश्क के बाज़ार में,
लाखों दर्द छुपे होते हैं.
एक छोटे से इंकार में,
हो जाओ अगर ज़माने से दुखी,
तो स्वागत है हमारी दोस्ती के दरबार में.”

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33Next page

FREE WEB HOSTING >


Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button