Dosti Shayari

आदतें अलग हैं मेरी दुनिया वालों से,
दोस्त कम रखता हूँ पर लाजवाब रखता हूँ।…


 ऐ दोस्त अब क्या लिखूं तेरी तारीफ में. _
बडा खास है #तु_मेरी_जिंदगी में


नाम मे क्या रखा है दोस्तों,,,,
#आशा नाम की लड़की👯 से भी हमे
#निराशा😟 ही हाँथ लगती है😝….❗❗

✌😉


डिग्रियाँ तो तालीम के ख़र्चों की रसीदें हैं, दोस्तों
इल्म तो वही है, जो इंसान के किरदार से झलकता है 🙏


*बे-वजह देख रहा हु परेशाँ तुम्हें ‘दोस्त‘……!!*
*#दीवाने भी लगते नहीं #आशिक़ भी नहीं हो….!!*
☝❤

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33Next page

FREE WEB HOSTING >


Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button