Dosti Shayari

*आदतें अलग है हमारी..,*
*दुनिया वालो से..!*

*कम दोस्त रखते है..,*
*मगर लाजवाब रखते है..!*

*क्योंकि बेशक हमारी माला छोटी है..*
*पर फूल उसमें सारे गुलाब के रखते है..*
*🌷🌷*


*आंखे जो पढ़ ले, उसी को दोस्त मानना साहिब…..*
*वरना….चेहरा तो रोज दुशमन भी देखते हैं….!!!!*


#औकात💵 और ☝🏻#धर्म 🙏🏻देख 👀के #दोस्ती 👬नही🙅🏻‍♂ करता 😒जो ☝🏻#दिल ❤को अच्छा ☺लगता है ☝🏻उसी से #दोस्ती 👬करता😋 हूँ
#Be_Heartly 💘👑


#घर से🏡 निकलते🚶 वक़्त⌚ #माँ-बाप👪 की दुआ🛐 लेकर❣ चलते है, छोटा👼 हों या बड़ा👱 भाई👥 का साथ👬 देकर☺ चलते है॥
#कुत्तों🐕 की क्या❓ जरूरत🎗 इस ##दुनिया🌐 मैं😕,
जब साथ🤝 मे #शेरो🦁 जेसे #दोस्त😘 पलते🐅 है😎 🦅


तुम सिखाओ अपने दोस्तों को
हथियार चलाना…
हमारे दोस्त तो पहले से ही बारूद है.. 💪💪

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33Next page

FREE WEB HOSTING >


Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button